Monday, 11 July 2011

छूना नहीं

कभी ग़लती से भी छूना नहीं नज्मों को मेरी |
इन्हें बस दूर से देखो; नहीं तो जल ही जाओगे!

बस यूँही